Inside Out, Rocks

Wacky Posters announced the opening of a new play in Gurgaon

The latest play, Inside Out, is one more feather in its writer and director, Gouri Nilkantan Mehta’s cap. Gouri is a graduate in theatre from Miami University and has directed more than a dozen plays in English and Hindi.Last time when I watched Gouri take an account of her actors’ preparedness (they were all on the stage and she was sitting with a mic down in the spectators’ place) I think that propelled them into lively action. Nine Jaloo Hill was a grand success and the uproarious applause from the audience made the actors jubilant in the end. A similar thing happened this time too when Gouri pulled up her socks and sleeves and reprimanded her actors for a lackluster approach (they lacked throw in their speech and crispness in their movement) in the first half of Inside Out and that resulted in a much animated and lively performance in the second half; and that made all the difference, compensating the loss suffered.

The play begins with a monologue of a teenaged bohemian girl, Kamini who now calls herself Nargis, played by Narayini Kumar. She comes from her secluded living in Kumyun her half Australian mother to Gurgaon aspiring to discover herself. The cactus pot that she carries along is her sole companion. In order to avoid sneering from the city guys, she pretends to have come from Bangalore.In another monologue, a young man Nikhil, played by Karan Madan, discloses his aspiration for becoming a lucratively paid litigation lawyer in Gurgaon.Nayantara and Nishant, played by Niyomi Dey and Sheel Kalia, through a light hearted conversation, portray a domineering wife and a henpeck husband. Nishant does not like her playing Mozart, her snoring in the bed, her using eight pillows in the bed, liking golgfish and suggesting to visit Vahamas and Neemrana. Nayan loaths his ‘aromatic’ socks, the overuse of air conditioning and a noisy flush in the bathroom, and so on. After twelve years of their married life, they decide to separate temporarily.

A Scene from the play – where two is company – three is ??

Nishant with the help of Nikhil, gets a room to share with Nargis, and Nayan is persuaded by the same Nikhil to accommodate Neil, a Kashmiri migrant and a Health Insurance personnel, as a tenant, played by Rajguru Mohan. Here, the guy playing Nikhil, Karan Madan, who replaced the actor playing this role in the last minute, made his presence felt with his remarkable confidence and zest.After some pretentious lies about herself, Nargis discovers her true identity. Nargis tries to befriend Nishant to which he gives a cold response. Both the actors – Narayini Kumar and Sheel Kalia – portray their characters well. However, more variations in tone and gestures when switching from the pretentious self to the true self could have done wonders.

Nishant makes an attempt to come back home but finds a chit left in the house by Nayan, dissuading him from coming back. When again he comes to fetch his belongings, Nayan tells him she had sold them off.Lok Kala Manch offers a stage which confines the scope for movement; and, apparently, the play seems to have been conceived for a bigger one. The stage encompasses a single bedroom of Nargis on the left, a bar at the right back and the sitting room of Nayan in the right front and the left front is used for Nikhil, and Neil meeting him. The wise use of stairs in the last scene deals well with the otherwise cramped stage.

By the last scene, actors seemed to have shed off any inhibitions they might have had so far and they came in the fore with their striking punches. In the two simultaneous scenes played by Narayini Kumar and Rajguru Mohan on the one hand and Niyomi Dey and Sheel Kalia on the other concluded the play marvellously well.Separation for over two months seems enough for Nayan and Nishant to realise that they could not live without each other. At the same time, Nargis and Neil too discover themselves to be a compatible match.Gouri surprises! She surprises with her zest and zeal, her innovations, her hard work and accuracy. She surprises by beginning with amateurs and turning them into professionals. She surprised this time once again with the same set of her skills, and endeavour.
– Dinesh Agrawal




The Triumph of Theater on Delhi’s Stage through Natsamrat Natya Utsav

Recently, Delhi’s theater organization Natsamrat presented a total of eight of its seven different plays. Where the audience appreciated all the plays very much. The special thing about Natsamrat’s plays is that this organization performs plays that touch the souls of the audience, giving heart-touching messages to the society through laughter or simplicity. These plays were staged in LTG Auditorium, Mandi House, New Delhi.

The play ‘Fauji’, written and directed by Sanjay Basliyal, was staged on 16 March at 3 pm and the play “Sakharam Binder”, written by Vijay Tendulkar and directed by Vishwajit Alexander, was staged at 4:15 pm on the same evening. The play “Kuch Tum Kaho Kuch Hum Kahan” written by Ashish Kotwal and directed by Shyam Kumar was staged on 17 March at 3 pm and the play “Kambakht Ishq” written by Satya Prakash and directed by Shyam Kumar was staged on the same evening at 4:15 pm. Went. The play “Comedy Junction”, written by Anton Chekhov and directed by Fareed Ahmed, was staged on March 23 at 3 pm and the play “Chandralok.com”, written by Harishankar Parsai and directed by Rakesh Kodinya, was staged at 4:15 pm. The comedy drama “Kallu Nayi MBBS”, written by Molière and directed by Shyam Kumar, was staged on 30 March at 6:30 pm and 7:45 pm (2 shows).

All the actors associated with the drama created a different place in the minds of all the viewers with the magic of their acting. One audience even said that our family always waits for your plays. Another viewer said that Natsamrat’s plays are such that every age member of the family feels happy. Natsamrat director Shyam Kumar said that we will continue to bring such plays in front of the audience and through our plays will continue to give messages to the society on deep topics through laughter.




‘सर सर सरला’ उर्फ ‘श्रंगार काण्ड’… मंच पर कविता

समीक्षा: अनिल गोयल

मंच पर कविता का मंचन लगभग बीस-बाईस वर्ष पूर्व देखा था, जब भोपाल से भारत रंग महोत्सव में आई विभा मिश्रा का नाटक ‘उनके हिस्से का प्रेम’ देखा था. मंच पर वही कविता एक बार फिर मंचित होती देखी, वशिष्ठ उपाध्याय के निर्देशन में मकरन्द देशपाण्डे के नाटक ‘सर सर सरला’ में, जिसे संजीव कान्त के रंगसमूह ‘कॉमन पीपुल’ ने ‘श्रृंगार काण्ड’ के नाम से 17 मार्च 2024 को प्रस्तुत किया. प्रस्तुति गुरुग्राम में महेश वशिष्ठ के ‘रूफटॉप’ प्रेक्षागृह ‘रंगपरिवर्तन’ में हुई. इस प्रकार के एक छोटे से, ‘इंटिमेट’ स्टूडियो प्रेक्षागृह में इस नाटक की सुन्दर प्रस्तुति ने अभिभूत कर दिया, कि कविता आज भी जीवित है! प्रकाश की सीमित उपलब्ध व्यवस्था के बीच, अभिनय के अतिरिक्त कोई उपकरण कलाकारों के पास नहीं बचता! और सभी कलाकारों ने उसका भरपूर उपयोग किया!

बायें से: नाटक के निर्देशक वशिष्ठ उपाध्याय, रंगकर्मी महेश वशिष्ठ, नाट्य समीक्षक अनिल गोयल

और मंच पर ही नहीं, कविता दर्शकों के बीच भी विराजमान रही, जहाँ नाटक के दौरान लगभग डेढ़ घंटे में मुझे एक बार भी कोई व्यक्ति मोबाइल पर सन्देश देखता हुआ तक भी नजर नहीं आया! इसे नाटक की प्रस्तुति के उत्कृष्ट होने के प्रमाण के रूप में भी लिया जा सकता है! और मुझे लगा, कि तीन पीढ़ियों को लेकर भी कोई परिवार वहाँ नाटक देखने आया हुआ था! यही चीजें रंगमंच के भविष्य के प्रति विश्वास जगाती हैं!
मंच पर प्रो. जी.पी. पालेकर के रूप में वशिष्ठ उपाध्याय, सरला के रूप में ज्योति उपाध्याय और फणीधर के रूप में तारा सिंह ने अद्भुत कसी हुई प्रस्तुति दे कर दर्शकों को हिलने भर का भी अवसर नहीं दिया! अपनी विद्यार्थी की अनुरक्ति से दिग्भ्रमित से प्रो. पालेकर (वशिष्ठ उपाध्याय), अपने आदर्श अध्यापक के प्रति रसीला अनुराग लिये सरल सी सरला (ज्योति उपाध्याय), और सरला की इस अनुरक्ति से परेशान फणीधर (तारा सिंह), जिसे सरला के एक अन्य साथी केशव के साथ विवाह के दंश को भी झेलना पड़ता है – इन चार पात्रों की इस चतुष्कोणीय प्रेम कथा मनुष्यों के बीच के सम्बन्धों की जटिलता के प्रश्न को बहुत सुन्दर तरीके से प्रस्तुत करती है, जिसमें मंच पर केशव कभी उपस्थित नहीं होता. वशिष्ठ उपाध्याय और ज्योति उपाध्याय ने बहुत कसे हुए तरीके से अपनी भूमिकाएँ निभाई हैं. लेकिन जिस तरीके से तारा सिंह ने एक झल्लाये हुए कुंठित प्रेमी की कठिन भूमिका को निभाया है, जिसमें एक ओर उसके प्रोफेसर हैं, दूसरी ओर वह लड़की है जिसे वह मन ही मन प्रेम करता है, और तीसरी ओर एक अन्य सहपाठी है, जिसके साथ सरला विवाह कर लेती है, वह दर्शनीय था!
‘कॉमन पीपुल’ की रजत जयन्ती के अवसर पर उन्होंने महेश वशिष्ठ और हरि कश्यप को सम्मानित किया. इस सम्मानित व्यक्तियों साथ मुझ अकिंचन को भी सम्मिलित करके उन्होंने अपनी श्रेष्ठता का ही परिचय दिया!




Natsamrat Natya Utsav Lights up Delhi’s Stage with its Plays

Natsamrat Natya Utsav has started in Delhi Theater. Amidst the fast-paced life of the city, there must be some moments of happiness and to fulfill the same, the audience can come to Natsamrat Natya Utsav which is going on at LTG Auditorium, Mandi House, New Delhi.

The first play “Fauji”, written and directed by Sanjay Basliyal, was highly appreciated by the audience. The drama ‘Fauji’ is the story of an 80-year-old ex-serviceman (Diler Singh) from Uttarakhand, whose family has a legacy of serving the Indian Army. A news channel wants to cover their story and present it sensationally to increase their TRP ratings. Parallely, the news anchor who will cover the story (Kritika) and the cameraman (Kishore) were once in a relationship and have stopped working with each other since the breakup. They are now forced to work together on this story. As the play highlights the life of Diler Singh, a soldier who paid a great price to serve the country, it leaves a lasting impact on Kritika and Kishore’s relationship. Suresh Chandra played the role of editor, Sumita Sharma played the role of Pinky, Mantu had Prateek Rawat, Krutika, Roshan played the role of Kishore and Sanjay Basliyal, the writer and director of this play played the role of Diler Singh. P.K.Khayal conducted the lighting, Ashu conducted the music, Hardeep Singh and Mr. Om Sharma took charge of the backstage. All the actors played their roles beautifully and the audience also got engrossed in their phenomenal acting. It was staged on 16 March at 3:00 pm.

The second play of the evening was “Sakharam Binder” written by Vijay Tendulkar and directed by Vishwajeet Alexander. The play’s title alludes to Sakharam who is alone, devoid of familial ties, and whose profession as a book-binder enables him to stay away from the milieu of conservative society and live a quaint life on his own terms. Vishwajeet played the role of Sakharam, Ekta played the role of Lakshmi, Krutika played the role of Champa, Shammi played the role of Faujdar and Naveen played the role of Dawood. The acting of all the actors was impressive. Yash and Sachin were in music, Archana Kumari did the arrangement and Naina was in lighting operations. The play was staged on 16 March at 4:15 pm.

Two plays were staged on the second day of Natsamrat Natya Utsav. The first play was “Kuch Tum Kaho Kuch Hum Kahe” and the second play was “Kambakht Ishq”.

Kuch Tum Kaho Kuch Hum Kahein” exemplifies excellence from the pen of Ashish Kotwal and directed by Shyam Kumar, which premiered on 17th March at 3:00 PM. Dr. Anand, closing the doors of happiness, gives life Meets Mansi who wants to be adopted. Vivek Sharma and Munmun’s heart-touching banter immersed the audience in emotions. The lead actors of the drama, Vivek Sharma and Munmun, sometimes have sweet and sour banter and sometimes support each other. The performance of both of them left the audience emotional. The audience appreciated the play a lot.

In the play “Kambakht Ishq” written by Satya Prakash, it was shown that the elderly, being victims of loneliness, create a separate world within themselves and fall ill, even though they are not ill. Two elderly people, one Kishan and the other Radha, fall ill due to their loneliness. The director of the play, Shyam Kumar, has given a very beautiful message to the society that in old age, when children become busy in their life’s work, they find it difficult to find time for their parents. Then how bad the condition of those elderly people becomes.

In the drama, Sanjay Basliyal played the role of Kishan and Munmun played the role of Radha, Vivek Sharma played the role of the son and Savita Gupta played the role of the daughter, P.K. Khayal played the role of the doctor. Aman played the role of compounder. The stage managers were Sunil Rathore and Rohit Prasad Prasad, Sooraj and Lokesh were in stage props, Rajrani was in makeup, Payal was in costume, Raman Kumar and Mahendra Kumar took charge of the backstage, Aman and Vansh Rathore were in song management. Light Designed was conceptualized by Natsamrat director Shyam Kumar. This play was staged on March 17 at 4:15 pm. This Natya Utsav is still going on. On 23rd March, two plays are being staged by “Comedy Junction” and “Chandralok.Com”, and on 30th there is a comedy play Kallu Nai MBBS. The festival is being held in LTG Auditorium, Mandi House, New Delhi.




Jaywardhan’s Play ‘Nirjan Karawas’ Launched

The play Nirjan Karawas, written by Jaywardhan, was launched on 2 March 2024 at 4:00 pm in Delhi.

JP Singh alias Jaiwardhan has received ‘Honorary Degree’ from Bharatendu Natya Academy, Lucknow. He is honored with the Akademi Award for the year 2007 for playwriting by Uttar Pradesh Sangeet Natak Akademi, Lucknow. He is an expert in acting, direction and lighting concept. He has written many famous plays, including ‘Urgent Meeting’, ‘Kissa Maujpur Ka’, ‘Kaalpurush’, ‘Hai! Handsome’, ‘Mayaram Ki Maya’, ‘Jhansi Ki Rani’, ‘Madhyaantar’, ‘Mastmoula’, ‘Daroga ji Chori Ho Gayi’, ‘Jaisa Tum Kaho’, ‘Akhir Ek Din’, ‘Karmaev Dharmah’, ‘Antataha ‘, ‘Gorakhdhandha’, ‘Gandhari’, ‘Khairatilal Ka Kursi Tantra’, ‘Paro’, ‘Ek Aur Meeting’ and ‘Babu Harishchand’. 15 plays written by him have been published, along with 6 of his children’s plays have also been published. He has also made an impressive drama adaptation of Munshi Premchand’s classic novel ‘Godaan’. Many of his plays have also been telecast on Doordarshan and All India Radio.

Padmashree Sh. Daya Prakash Sinha, Senior Dainik Jagran Journalist Shri Anant Vijay, Akhil Bharatiya Co-Treasurer Subodh Sharma, Senior playwright Sh. Pratap Sehgal, Senior Drama Critic Sh. Anil Goyal, Senior Theater Artist Sh. Avtar Sahni were the chief guests at the inauguration. Jaywardhan welcomed all the chief guests.  Pratap Sehgal, while praising his writing, was seen saying on some issues of the play that more pages of history could have been added to it. In response to this, Jaywardhan said that the play ‘Nirjan Karawas’ depicts the period of solitary confinement of Maharishi Aurobindo Ghosh, that is why only one incident has been discussed in detail in it, due to which the author focuses the attention of the readers on one place. All the chief guests said about his writing that just as he wrote comic plays, he also wrote on serious subjects, which touched the hearts of the readers. The special thing is that he is an actor as well as a director, so he writes the scenes of the story more beautifully. It was also said to him that despite being so busy, he is writing many plays, which are present in the library even today and the plays written by him are being played in every corner of India.

Senior Critic Sh. Diwan Singh Bajeli, Senior Writer Sh. Hari Suman Bisht, Senior Critic Sh. Sangam Pandey, Senior Drama Director Sh. Shyam Kumar, Senior Drama Director Vashishth Upadhyay, Senior Drama Director Sh. Bhupesh Joshi, Senior Drama Director Sh. Ravi Taneja etc. participated in the audience.




Natsamrat’s Theatrical Showcase: A Tapestry of Emotions Unveiled in Delhi’s Stage

Natsamrat unfolded a captivating display of theatrical brilliance, showcasing four remarkable plays. Commencing with “Kuch Tum Kaho Kuch Hum Kahen,” written by Ashish Kotwal and directed by Shyam Kumar took stage on 20th January at 6:30 pm & 7:45 pm. The narrative delves into the collision of two disparate worlds. Dr. Anand, shutting doors to happiness, encounters Mansi, aspiring to embrace life. Vivek Sharma and Munmun’s poignant exchange left the audience immersed in emotions.

Following this, “Sakharam Binder” by Vijay Tendulkar, directed by Vishwajeet Alexander, took center stage on January 21 at 3 pm & 4:15 pm.. Vishwajeet portrayed Sakharam alongside Shruti, Krutika, Nasir, and Naveen, delivering an impressive performance. The timeless narrative, dating back to 1972, resonated, with Akash handling music and lighting, Archana overseeing aesthetics, and Sangeeta managing props.

The comedic gem, “Kambakht Ishq,” written by Satya Prakash and directed by Shyam Kumar, unfolded on January 26 at 6:30 pm & 7:45 pm. Offering a humorous take on the loneliness in old age, Vishwajeet, Munmun, Sanjay Basliyal, and Savita Gupta, among others, left the audience oscillating between laughter and tears. A meticulous production, featuring Sunil Rathore and Rohit Prasad as stage managers, showcased the multifaceted talents of the Natsamrat team.

Closing the theatrical extravaganza was “Chandralok.com,” an adaptation of Harishankar Parsai’s story, directed by Rakesh Kodinya on 28th January at 3 pm & 4:15 pm. The ensemble cast, including Munmun, Vivek Sharma, Sanjay Basliyal, Sudhir Khanna, Jagbir Choudhary, and Aman, not only evoked laughter but also conveyed a profound message through their performance. With music conducted by Shivangi and lighting envisioned by Shyam Kumar, this play added a delightful conclusion to the series.

These four enthralling plays graced The Blank Canvas (LTG Auditorium), Copernicus Marg, Mandi House, New Delhi, leaving an indelible mark on the audience.




Unveiling the Untold: Felicity Theatre’s ‘Humare Ram’ Takes India by Storm

Felicity Theatre’s unprecedented presentation of the play “Humare Ram”. Today the whole of India is rejoicing over the construction of Ram temple in Ayodhya, at the same time Rahul Bhuchar brought the play ” Humare Ram” to the audience. It is written by Rahul Bhuchar and Naresh Kavayan and directed by Gaurav Bhardwaj. Very beautiful music was used in the play. The songs were written by Alok Srivastava and Ramkumar Singh and composed by Udbhav Ojha and Saurabh Mehta. Well-known Bollywood singer Shankar Mahadevan, Sonu Nigam, Kailash Kher and Ashutosh Rana gave voice to the songs.

This play is an epic in a way whose words have been beautifully woven into a garland. Felicity Theater director Rahul Bhuchar played the role of Shri Ram and well-known Bollywood actor Ashutosh Rana played the role of Ravana while Harleen Kaur Rekhi played the role of Mata Sita. Danish Akhtar was seen as Lord Hanuman, Tarun Khanna as Lord Shiva and Karan Sharma as Surya Dev.

While the audience got engrossed in devotion due to Ram’s dialogue, the audience applauded a lot after seeing the style of Ravana (Ashutosh Rana). While Kailash Kher’s voice created magic in the drama, Ashutosh Rana’s voice also created magic. The audience became engrossed in devotion with the voice of Sonu Nigam.

The special thing about ” Humare Ram” is that this drama exposed many hidden incidents of Ramayana which may not be known to many people. The story started from Luv and Kush’s perspective. All the scenes were shown very beautifully and the entire Ramayana was depicted in three hours. Be it the arrival of Sun God on the stage or the entry of Hanuman on the stage. Shurpanakha got a lot of applause for her acting. The light design was amazing with LEDs. The children played the role of monkeys who are very adept dancers and made their entry with a beautiful and energetic dance. Rahul Bhuchar had laid the foundation of this play two years ago, which came true today and this play got a lot of love from the audience.

The play “Hamare Ram” was staged at Kamani Auditorium, New Delhi from 25 to 28 January.




रामानुजन

रामानुजन
— अनिल गोयल

दिल्ली के रंगप्रेमी दर्शक साठ और सत्तर के दशकों से लेकर एक लम्बे समय गम्भीर नाटकों के साक्षी रहे हैं. परन्तु पिछले कुछ समय में हास्य-व्यंग्य के कुछ हल्के और कुछ बहुत सस्ते नाटक ही दिल्ली के रंगमंच परिदृश्य पर अधिकतर छाये रहे हैं. ऐसे में एक गम्भीर नाटक में, विपरीत परिस्थितियों में भी दर्शकों की उपस्थिति बहुत उत्साहवर्धक रही, और इस बात के प्रति आश्वस्त करती है कि दिल्ली में अभी भी गम्भीर नाटकों के दर्शक हैं.
संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित प्रताप सहगल के नाटक ‘रामानुजन’ का हिमांशु यादव द्वारा साहित्य कला परिषद दिल्ली के युवा नाट्य समारोह में प्रदर्शन किया गया. यह इस नाटक का कहीं भी पहला प्रदर्शन था. 12 जनवरी 2024 के दिन, इस नाटक से पहले एक और नाटक एल.टी.जी. प्रेक्षागृह में चल रहा था, जो बहुत लम्बा खिंच गया, और नाटक ‘रामानुजन’ अपने निर्धारित समय से एक घंटे से भी अधिक देरी से प्रारम्भ हो पाया. लेकिन फिर भी हॉल लगभग पूरा भरा हुआ था, जिसे देख कर बहुत सन्तोष हुआ.
हॉल देरी से मिलने के कारण प्रकाश परिकल्पक रमन कुमार लाइट्स भी ठीक से व्यवस्थित नहीं कर सके. लेकिन तो भी, अरविन्द सिंह के मार्गदर्शन में हुए इस नाटक के प्रथम प्रदर्शन ने ही दर्शकों को इतना आकर्षित किया कि अन्त तक भी सभी दर्शक बंधे बैठे रहे.
नाटक प्रसिद्ध गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन की जीवन-यात्रा की एक झलक है. इसमें पाठकों और दर्शकों को एक बहुत गरीब घर में जन्मे रामानुजन की अद्भुत, कुछ सीमा तक दैवीय प्रतिभा की जानकारी मिलती है. रामानुजन बचपन से ही गणित की अद्भुत प्रतिभा ले कर पैदा हुए थे, जिसे उन्होंने ग्यारह वर्ष की आयु में ही दिखा दिया था! हाई स्कूल में वे गणित के उच्च-स्तरीय सूत्रों, प्रश्नों और अन्य सिद्धान्तों को आसानी से सुलझाने लगे थे. इस समय तक वे अपने साथियों के लिये एक पहेली बन चुके थे, और उनके साथी उन्हें बहुत श्रद्धा की नजरों से देखने लगे थे; हालांकि गणित पर बहुत अधिक जोर देने और अन्य विषयों की उपेक्षा करने के कारण वे उच्चतर परीक्षाओं में सफल न हो पाये! फिर गरीबी के कारण वे अपना समय मद्रास पोर्ट ट्रस्ट में क्लर्क की नौकरी करके गँवाने को मजबूर हुए.
उन्होंने इंग्लैंड में कैम्ब्रिज में वहाँ के गणितज्ञों के साथ पत्र-व्यवहार प्रारम्भ किया. कुछ समय पश्चात उनकी प्रतिभा को पहचानते हुए उन्हें मद्रास के बोर्ड ऑफ स्टडीज इन मैथेमेटिक्स के द्वारा लन्दन जाने के लिए स्कालरशिप दी गई. विषम आर्थिक, सामाजिक और पारिवारिक परिस्थितियों से लड़ते हुए वे जैसे-तैसे लन्दन पहुँचे और अंग्रेज गणितज्ञ जी.एच. हार्डी के संरक्षण में गणित पर अपना शोध करते रहे. लेकिन स्वास्थ्य के बिगड़ने पर उन्हें भारतवर्ष लौटना पड़ा, जहाँ वे बहुत लम्बे समय तक जीवित नहीं रह सके.
नाटक में उस समय की विषम सामाजिक परिस्थितियों, और उनके चलते रामानुजन के संघर्ष को युवा निर्देशक हिमांशु यादव ने बहुत सफलता के साथ दर्शाया है. साथ ही, असाधारण प्रतिभा वाले लोगों के, जो साधारण डिग्रियाँ में कई बार असफल रहते हैं, संघर्ष को भी उकेरा गया है. मद्रास के बोर्ड ऑफ स्टडीज में रामानुजन को स्कालरशिप दिये जाने के प्रश्न पर हुए विचार-विमर्श से यह स्पष्ट नजर आता है. इस दृश्य में निर्देशक ने उस समय की परिस्थितियों के तनाव को दिखाने में सफलता पाई है. परन्तु रामानुजन का संघर्ष यहीं नहीं समाप्त होता, उसे अपने परिवार के उस समय के गुलाम भारत के रूढ़िवादी विचारों से भी जूझना पड़ता है, हालांकि यह शोध का विषय हो सकता है कि रामानुजन की बूढ़ी दादी सबसे पहले उसे विदेश जाने के लिये अनुमति कैसे दे देती है! इन सब संघर्षों के बीच से निकल कर लन्दन जाने, वहाँ के अत्यन्त ठण्डे मौसम के साथ संघर्ष करने, और उस समय पर चल रहे प्रथम विश्वयुद्ध की विपरीत परिस्थितियों में भी, जहाँ उसे शाकाहारी होने के कारण खाने के लिये आलू के अतिरिक्त कुछ और नहीं मिलता, यह सब परिदृश्य रामानुजन के अनेक-स्तरीय संघर्ष को बहुत सुन्दरता के साथ उभारता है! इसी के साथ-साथ लन्दन के अनेक गणितज्ञ उसके काम को समझ न पा कर नकार भी देते हैं. यही चीज ‘स्ट्रक्चर्ड’ और ‘नॉन-स्ट्रक्चर्ड’ अध्ययन के बीच के अन्तर को भी दिखाती है, और भारतवर्ष की पराधीनता की बेड़ियों को भी दिखाती है! ऐसे में प्रोफेसर हार्डी उसके काम को पहचान कर उसका साथ देते हैं, जिससे रामानुजन की समस्याएँ कुछ सीमा तक कम हो पाती हैं!
रामानुजन के रूप में विपिन कुमार ने एक दक्षिण भारतीय व्यक्ति के चरित्र को बहुत अच्छे से जिया है. इसमें उन्हें अन्य सभी कलाकारों का भरपूर सहयोग मिला, जिससे यह नाटक अपनी तमाम समस्याओं और कमियों के उपरान्त भी एक दर्शनीय कृति बन गई. रामानुजन की पत्नी जानकी के रूप में पूजा ध्यानी नाटक का एक प्रमुख आकर्षण रहीं, जिन्होंने हर समस्या में रामानुजन को पग-पग पर सम्भाला! रामानुजन के साथ लन्दन जाने से पहले के समुद्र-किनारे के भावपूर्ण दृश्य की बात हो, रामानुजन से उसके पत्रों का उत्तर न मिलने की बात हो, या फिर रामानुजन की मृत्यु के अन्तिम दृश्य की बात की जाये, पूजा ने हर स्थान पर अपने सशक्त और भावपूर्ण अभिनय से नाटक को गति प्रदान करके दर्शकों को अपनी सीटों पर बैठे रहने को मजबूर किया! अम्मा (प्रज्ञा बैस) और प्रो. हार्डी (अतुल ढींगरा) से लेकर छोटे रामानुजन (भाग्येश कौशिक) तक सभी कलाकारों ने अच्छे से अपने चरित्र निभाये!
भारतवर्ष का हजारों वर्ष पुराना इतिहास, और सांस्कृतिक विविधताओं वाला एक विशाल देश होने के कारण यहाँ इस प्रकार के व्यक्तित्वों पर नाटक लिखने की अपार सम्भावनाएँ हैं, परन्तु उन पर काम नहीं किया गया है. प्रताप सहगल का जीवनचरित्र दिखाने वाला यह नाटक नाटक नये उभरते नाटककारों को इस ओर काम करने के लिये प्रेरणा देगा. नाटक केवल एक व्यक्ति के जीवन की कथा को ही नहीं दिखाते, अपितु वे अपने समय की राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक परिस्थितियों से भी दर्शकों को परिचित करवाते हैं! समाज में बड़े स्तर पर उथल-पुथल मचा देने वाला एक नाटक बांग्ला नाटकार दीनबन्धु मित्र का 1860 में प्रकाशित नाटक ‘नीलदर्पण’ रहा, जिसने न केवल भारत के स्वतन्त्रता-संग्राम को एक नई दिशा प्रदान की थी, बल्कि यूरोप के अनेक क्षेत्रों के किसानों की दशा के बारे में भी चिन्तन को प्रारम्भ किया था.
मुकेश झा के संगीत सयोजन ने नाटक को आगे बढ़ाने में सहयोग दिया. नाटक में दृश्य-संयोजन में कुछ अनुशासन रख कर निर्देशक दर्शकों के प्रति न्याय कर सकेंगे, पूरे मंच पर पूरे समय गणित के फॉर्मूले दिखा कर निर्देशक ने दर्शकों का ध्यान भंग ही किया है. साथ ही, समुद्र-किनारे के रामानुजन और जानकी के बीच के भावपूर्ण दृश्य में भी रामानुजन के हाथों में स्लेट थमा कर निर्देशक रामानुजन के चरित्र के प्रति न्याय नहीं कर पाये हैं. इन एक-दो छोटी-मोटी चीजों के होते हुए भी, अरविन्द सिंह के मार्गदर्शन में एक सुन्दर नाटक की प्रस्तुति देख कर दर्शकों को एक अच्छा नाटक देखने का सुख मिला, इसके लिये अरविन्द बधाई के पात्र हैं!




लन्दन की गैसलाइट दिल्ली में

समीक्षा: अनिल गोयल

लन्दन की गैसलाइट दिल्ली में
1965 के आसपास एक फिल्म आई थी, ‘इन्तकाम’. रहस्य और रोमांच से भरपूर एक क्राइम थ्रिलर. साठ और सत्तर के दशकों में ऐसी अनेक फिल्में आईं… सुनील दत्त और लीला नायडू की ‘ये रास्ते हैं प्यार के’, विनोद खन्ना की ‘इम्तिहान’ इत्यादि. फिर फिल्मों का यह जॉनर या श्रेणी समाप्त हो गई. बाद में टेलीविजन पर ‘करमचन्द’ के नाम से जासूसी सीरियल आया, परन्तु उसमें भरा मसखरापन उसकी गम्भीरता को प्रभावित करता था. उसके कुछ समय बाद एक लोकप्रिय धारावाहिक ‘ब्योमकेश बख्शी’ आया, जो एक बंगाली कहानी पर आधारित था. दिल्ली के अंग्रेजी रंगमंच पर तो ऐसे क्राइम थ्रिलर लगातार खेले जाते रहे हैं, परन्तु हमारे हिन्दी रंगमंच पर ‘क्राइम थ्रिलर’ की विधा को बहुत कम प्रयोग किया गया है.
राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (रानावि) के तीसरे वर्ष के विद्यार्थी शेखर काँवट ने अपनी पढ़ाई पूरी होने के बाद, ब्रिटिश उपन्यासकार और नाटककार पैट्रिक हैमिल्टन के क्राइम थ्रिलर नाटक ‘गैसलाइट’ को अपनी डिप्लोमा प्रोडक्शन के लिए मंचित किया. इसका हिन्दी में अनुवाद प्रियम्वर शास्त्री ने किया है.
बहुत वर्षों से रानावि में डिप्लोमा प्रोडक्शन के लिए प्रयोगात्मक या एक्सपेरिमेंटल थिएटर, अथवा सीन-वर्क ही प्रस्तुत किया जाता रहा है, या फिर ‘डिवाईज्ड’ प्ले… पूरा नाटक करने की क्षमता वहाँ के विद्यार्थी बहुत कम प्रदर्शित कर सके. सीन-वर्क विद्यार्थियों के प्रशिक्षण का एक हिस्सा हो सकता है, किसी विद्यार्थी की नाटक को दर्शकों के सामने प्रस्तुत करने की क्षमता को वह नहीं दरशा सकता. तीन वर्ष की स्नातकोत्तर पढ़ाई करने के बाद प्रयोगात्मक या एक्सपैरिमैंटल नाटक, ‘डिवाईज्ड’ प्ले या सीन वर्क को डिप्लोमा प्रोडक्शन के रूप में सामान्य जन-दर्शकों के सामने प्रस्तुत करना उस विद्यार्थी की क्षमता को सार्वजानिक रूप से प्रदर्शित करने से रोकना ही कहा जा सकता है! साथ ही, दर्शकों ने भी ऐसे ‘नाटकों’ से अपने को धोखा खाया हुआ ही अनुभव किया है, जिससे दर्शक रंगमंच से दूर ही हुए हैं.

ऐसे में शेखर काँवट के द्वारा अपने में एक सम्पूर्ण नाटक का प्रस्तुत किया जाना चाहे एक नई परम्परा का निर्माण कर रहा है, या फिर एक पुरानी, भुला दी गई परम्परा को फिर से जीवित कर रहा है, लेकिन वह दर्शकों के लिए एक सुखद अनुभव अवश्य रहा. और नाटक तो दर्शकों के ही लिए होता है. डिजाईन, एक्सपैरिमैंट, ‘डिवाईज्ड’ प्ले या सीन वर्क सामान्य दर्शक के लिए नहीं होते.
और शेखर ने इस नाटक को प्रस्तुत करते समय दर्शकों के प्रति अपनी जिम्मेवारी को पूरी सफलता के साथ निभाया है. नाटक की कहानी लन्दन की एक धुंध भरी सन्ध्या में एक समृद्ध व्यक्ति जैक के घर की है, जिसमें जैक अपनी पत्नी को पागल सिद्ध करना चाहता है. उस घर में पहले भी एक हत्या हो चुकी है. अब से लगभग डेढ़ सौ वर्ष पूर्व उस समय पर, लन्दन में सन्ध्याकाल में घर की बत्तियाँ या लाइट्स गैस से जलती थीं, और वही सांयकाल की चाय का भी समय होता था… उसी से पैट्रिक ने अपने नाटक का नाम ‘गैसलाइट’ रखा.
नाटक में लाइट्स शेखर ने स्वयं डिजाईन की थीं, जिनका ऑपरेशन शेखर की सहपाठी पस्की ने किया. लाइट्स, कॉस्टयूम, सैट्स, दृश्य-परिकल्पना, पोस्टर और निर्देशन, सभी कुछ शेखर काँवट का था. नाटक में एक अच्छी चीज रही धुएँ का कम से कम प्रयोग – धुंध भरी सन्ध्या का दृश्य होने पर भी, शेखर ने धुंध दिखाने के लिये केवल प्रारम्भ के कुछ क्षणों में ही धुएँ का प्रयोग किया था, उसके बाद फिर नहीं किया. अकारण मंच पर धुएँ का प्रयोग न केवल दृश्य को अनचाही छद्मता प्रदान करता है, बल्कि हमारे रंगकर्मियों के स्वास्थ्य को कितनी हानि पहुँचा रहा है, यह उन्हें समझना होगा!
एक अचम्भित कर देने वाला परिवर्तन विद्यार्थियों के इस वर्ष की पहली डिप्लोमा प्रस्तुति में नजर आया, और वह था प्रस्तुति में बाहर के विशेषज्ञों के ‘मार्गदर्शन’ का प्रयोग न करना. डिप्लोमा किसी विद्यार्थी की उसके परिक्षण-काल की अन्तिम परीक्षा होती है… ‘पासिंग आउट ऑफ ए ग्रेजुएट’. और परीक्षा में तो यही देखना होता है कि विद्यार्थी ने अपने तीन वर्षों में यहाँ क्या सीखा. उसमें यदि वह सभी बाहर के विशेषज्ञों के सहयोग या ‘मार्गदर्शन’ के द्वारा ही अपना काम दिखा रहा है, तो फिर कैसे यह समझा जायेगा, कि उसने स्वयं ने तीन वर्षों के प्रशिक्षण में क्या सीखा? इस बार विद्यालय की ओर से विद्यार्थियों को कहा गया कि अपने डिप्लोमा के लिये वे नाटक को स्वयं ही तैयार करेंगे; उन्हें जो भी सहायता रानावि से चाहिए, वह उन्हें मिलेगी, लेकिन डिप्लोमा के नाटक को उन्हें स्वयं अपने से ही तैयार करना होगा. बाहर की तकनीकी सहायता यदि कहीं आवश्यक है, तो वह मिल सकेगी, लेकिन बाहरी मार्गदर्शन इत्यादि नहीं होंगे! पता चला है कि अभ्यास के समय पर विद्यालय के अध्यापक रिहर्सल में आकर बैठते थे, उसका निरीक्षण करते थे. इसी के चलते, इस नाटक में केवल ध्वनि प्रवाह या साउंड डिजाईन के तकनीकी काम को सन्तोष कुमार सिंह ‘सैंडी’ ने किया (जिन्हें पश्चिमी संगीत पर अच्छी पकड़ है), बाकी सभी काम इन विद्यार्थियों ने स्वयं किये! और उसके सुखद परिणाम निकले… दर्शक, जो किसी भी नाटक की सफलता के सर्वोच्च निर्णायक होते हैं, इस नाटक से बहुत प्रसन्न नजर आये… जिनके लिये, शेखर कहता है कि उसने यह नाटक तैयार किया था! नाटक में दर्शक के प्रति शेखर की निष्ठा स्पष्ट नजर आती थी, “इंटेलेक्चुअलिटी से दूर रह कर मैंने यह नाटक तैयार किया था; मैं ऐसा नाटक नहीं बनाना चाहता था जो दर्शकों की समझ में ही ना आये”! इसीलिये मैंने नाटक के बाद किसी दर्शक को शेखर को रंगमंच का तारेंतिनो कहते हुए सुना!
इस परिवर्तन के लिए राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के नये निदेशक चित्तरंजन त्रिपाठी विशेष रूप से अभिनन्दन के पात्र हैं. वे स्वयं यहीं से पढ़े हुए हैं, और बहुत सारी चीजों की आवश्यकता और अनावश्यकता को गहरे से समझते हैं. इस प्रकार का परिवर्तन लाने के लिये अकादमिक परिषद को तैयार करना अवश्य ही कठिन रहा होगा. आशा है कि भविष्य में विद्यालय में और भी अनेक अपेक्षित परिवर्तनों को वे ला सकेंगे. इस प्रकार के परिवर्तन से शेखर को स्वयं भी प्रस्तुति के समय पर बहुत मन्थन करना पड़ा, लेकिन परिणाम सुखद ही रहे!
नाटक के मंच की परिकल्पना दो-मंजिला बॉक्ससैट के रूप में की गई थी, जिस का प्रयोग बहुत कठिन होता है. रॉबिन दास, राजेश बहल जैसे गिने-चुने सैट-डिजाइनर्स ही इस प्रकार के प्रयोग कुशलतापूर्वक करते रहे हैं. परन्तु शेखर ने बहुत कुशलता से इस तकनीक का प्रयोग करके इस नाटक को लुभावना बना दिया. शेखर का लाइट्स का प्रयोग भी सुन्दर था, जिसमें दर्शकों की आँखों पर बहुत कम प्रकाश आ रहा था. एक अच्छी बात यह रही, कि शेखर ने इस नाटक को हिन्दी में प्रस्तुत करके भी इस अंग्रेजी नाटक को “रूपान्तरित” करने का प्रयास न करके नाटक को उसके मूल स्वरुप में प्रस्तुत करने का जोखिम उठाया, जिसकी स्वीकार्यता कठिन होने का खतरा था. लेकिन दर्शकों ने नाटक को बहुत सराहा!
नाटक की सबसे सुन्दर चीज थी इसके अभिनेताओं का अभिनय! जैक की युवा पत्नी बेल्ला के रूप में प्रियदर्शिनी पूजा ने सबसे अधिक प्रभावित किया. अपनी पत्नी को पागल बना देने का षड्यन्त्र रचने वाले एक धनी और क्रूर व्यक्ति जैक के रूप में मनोज यादव का अभिनय भी किसी से कम नहीं था… उसके लम्बे बालों ने सचमुच जैक के चरित्र को ठीक से उभारने में मदद की. पुलिस अधिकारी रफ के रूप में अमोघ शाक्य ने सभी दर्शकों को प्रभावित किया. घर की सहायिकाओं के रूप में आईशा चौहान और अंजली नेगी ने भी छोटी भूमिकाएँ होने के उपरान्त भी अपनी उपस्थिति सशक्त रूप से स्थापित की, विशेषकर ऑपेरा-गायन के द्वारा, या फिर घर के मालिक के साथ के अपने प्रेम-प्रसंग को लेकर. पुलिस के सिपाही के रूप में सौरभ पांडे और सुनील थे. अपने सैट्स और प्रकाश-परिकल्पना, तथा कलाकारों से ऑपेरा के गायन का प्रयोग करवा कर शेखर ने नाटक में ब्रॉडवे का वातावरण निर्मित कर दिया था!
रानावि से निकलने के बाद शेखर की आगे की राह क्या रहेगी, यह तो कैसे जाना जा सकता है! लेकिन इस नाटक के रूप में प्रदर्शित उसकी अपने काम में कुशलता उसके अपने और उसके सभी साथियों के उज्जवल भविष्य की परिचायक तो है ही!




Captivating Acts and Compelling plays: Natsamrat’s Theater Extravaganza Leaves Mumbai Spellbound

Natsamrat staged four different plays at Creative Adda Auditorium, Versova, Andheri (W), Mumbai where the plays were greatly appreciated by the audience.

The first play, “Kuch Tum Kaho Kuch Hum Kahein,” written by Ashish Kotwal, was performed on January 6th at 7:00 PM at the Creative Adda Auditorium, Versova, Andheri West, Mumbai. The play revolves around two individuals, an elderly doctor, Dr. Anand, who has created a small world for himself through his profession, and a lively woman named Manasi, who enjoys life in her unique way. Despite their different perspectives on life, Dr. Anand has closed the doors to happiness, while Manasi, having endured her sorrows, strives to move forward and embrace life. The main actors, Vivek Sharma and Munmun, displayed a captivating chemistry on stage, alternating between witty banter and providing support to each other. The behind-the-scenes team, including director Shyam Kumar, lyrics by Rakesh Kodinya, Singer Ishan Tyagi, stage manager Sunil Rathore, stage properties by Suraj Singh, make-up by Payal Rani, costume by Chhobi Saha, Sound operated by Aman and other back stage team, contributed to the success of the play.

On January 6th at 8:15 PM, the second play, “Besahara Aurat,” written by Anton Chekhov and directed by Fareed Ahmed. The story, featuring Munmun in the lead role and Vivek Sharma as the bank manager, Assistant played by Jagbir Choudhary and Helper by Aman was filled with laughter and poignant moments. Stage Management by Vishwajeet, stage property by Lokesh, make-up by Raj Rani, Light Design by Natsamrat’s director Shyam Kumar. The play showcased the sweet and sour exchanges between the main characters, leaving a lasting impression on the audience. Shyam Kumar, the director of Natsamrat, brought this beautiful play to the Mumbai audience.

As part of the “Fourth Mumbai Theatre Festival” by Natsamrat on January 9th, two plays were staged. The first play, based on Harishankar Parsai’s story titled “Nithalla,” adapted by Kuldeep Kunal & Directed by Nagender Kumar Sharma, was presented as a solo performance by own Nagender Kr. Sharma, receiving much appreciation from the audience. The story revolves around an idealistic person, Nithalla, who dedicates his life to selfless deeds, challenging the societal trend that recognizes only those who work for their own gain.

The second play, “Veer Savarkar,” written, enacted, and directed by Nagendra Kumar Sharma, depicted the journey of Savarkar in the struggle for independence. The emotional portrayal of Savarkar’s sacrifices left the audience moved. Both plays were presented with the support of Haryana Kala Parishad.

In conclusion, the “Fourth Mumbai Theatre Festival” organized by Natsamrat showcased a variety of plays, each leaving a distinct impact on the audience. The meticulous direction, powerful performances, and thoughtful themes made the festival a memorable experience for the Mumbai audience. Shyam Kumar, the director of Natsamrat, and the entire team received well-deserved appreciation for their efforts in bringing quality theatre to the city.