‘सर सर सरला’ उर्फ ‘श्रंगार काण्ड’… मंच पर कविता

समीक्षा: अनिल गोयल

मंच पर कविता का मंचन लगभग बीस-बाईस वर्ष पूर्व देखा था, जब भोपाल से भारत रंग महोत्सव में आई विभा मिश्रा का नाटक ‘उनके हिस्से का प्रेम’ देखा था. मंच पर वही कविता एक बार फिर मंचित होती देखी, वशिष्ठ उपाध्याय के निर्देशन में मकरन्द देशपाण्डे के नाटक ‘सर सर सरला’ में, जिसे संजीव कान्त के रंगसमूह ‘कॉमन पीपुल’ ने ‘श्रृंगार काण्ड’ के नाम से 17 मार्च 2024 को प्रस्तुत किया. प्रस्तुति गुरुग्राम में महेश वशिष्ठ के ‘रूफटॉप’ प्रेक्षागृह ‘रंगपरिवर्तन’ में हुई. इस प्रकार के एक छोटे से, ‘इंटिमेट’ स्टूडियो प्रेक्षागृह में इस नाटक की सुन्दर प्रस्तुति ने अभिभूत कर दिया, कि कविता आज भी जीवित है! प्रकाश की सीमित उपलब्ध व्यवस्था के बीच, अभिनय के अतिरिक्त कोई उपकरण कलाकारों के पास नहीं बचता! और सभी कलाकारों ने उसका भरपूर उपयोग किया!

बायें से: नाटक के निर्देशक वशिष्ठ उपाध्याय, रंगकर्मी महेश वशिष्ठ, नाट्य समीक्षक अनिल गोयल

और मंच पर ही नहीं, कविता दर्शकों के बीच भी विराजमान रही, जहाँ नाटक के दौरान लगभग डेढ़ घंटे में मुझे एक बार भी कोई व्यक्ति मोबाइल पर सन्देश देखता हुआ तक भी नजर नहीं आया! इसे नाटक की प्रस्तुति के उत्कृष्ट होने के प्रमाण के रूप में भी लिया जा सकता है! और मुझे लगा, कि तीन पीढ़ियों को लेकर भी कोई परिवार वहाँ नाटक देखने आया हुआ था! यही चीजें रंगमंच के भविष्य के प्रति विश्वास जगाती हैं!
मंच पर प्रो. जी.पी. पालेकर के रूप में वशिष्ठ उपाध्याय, सरला के रूप में ज्योति उपाध्याय और फणीधर के रूप में तारा सिंह ने अद्भुत कसी हुई प्रस्तुति दे कर दर्शकों को हिलने भर का भी अवसर नहीं दिया! अपनी विद्यार्थी की अनुरक्ति से दिग्भ्रमित से प्रो. पालेकर (वशिष्ठ उपाध्याय), अपने आदर्श अध्यापक के प्रति रसीला अनुराग लिये सरल सी सरला (ज्योति उपाध्याय), और सरला की इस अनुरक्ति से परेशान फणीधर (तारा सिंह), जिसे सरला के एक अन्य साथी केशव के साथ विवाह के दंश को भी झेलना पड़ता है – इन चार पात्रों की इस चतुष्कोणीय प्रेम कथा मनुष्यों के बीच के सम्बन्धों की जटिलता के प्रश्न को बहुत सुन्दर तरीके से प्रस्तुत करती है, जिसमें मंच पर केशव कभी उपस्थित नहीं होता. वशिष्ठ उपाध्याय और ज्योति उपाध्याय ने बहुत कसे हुए तरीके से अपनी भूमिकाएँ निभाई हैं. लेकिन जिस तरीके से तारा सिंह ने एक झल्लाये हुए कुंठित प्रेमी की कठिन भूमिका को निभाया है, जिसमें एक ओर उसके प्रोफेसर हैं, दूसरी ओर वह लड़की है जिसे वह मन ही मन प्रेम करता है, और तीसरी ओर एक अन्य सहपाठी है, जिसके साथ सरला विवाह कर लेती है, वह दर्शनीय था!
‘कॉमन पीपुल’ की रजत जयन्ती के अवसर पर उन्होंने महेश वशिष्ठ और हरि कश्यप को सम्मानित किया. इस सम्मानित व्यक्तियों साथ मुझ अकिंचन को भी सम्मिलित करके उन्होंने अपनी श्रेष्ठता का ही परिचय दिया!




World’s largest literature festival concludes

Einstein World Records gives certificate of achievement

The last day was dedicated to the differently abled writers

More than 850 children of Delhi NCR More took part in the programme ‘Aao Kahani Bune’

New Delhi, 16 March 2024: The Festival of Letters 2024, which is being organized by Sahitya Akademi as the world’s largest literature festival, concluded today. The last day of this six-day festival was dedicated to differently abled writers. To provide national platform to differently abled writers All India Differently Abled Writers’ Meet was organized. To awaken interest in literature among children many competitions were organized for more than 850 children at the programme ‘Aao Kahani Bune’. Today’s other important programmes included “Symposium on the Life and Works of Gopi Chand Narang”, “Translation in a Multilingual, Multicultural Society”, “Preservation of Indian Languages”, “Translation as Rewriting/re-creation in the Indian Context”, “Indian English Writing and Translation”. Apart from this, the ongoing national seminars on “Indian Oral Epics” and “Post-Independence Indian Literature” also concluded.
Considering this six-day festival as the world’s biggest literary festival, today the team of Einstein World Records, Dubai, presented the certificate of a world record in ceremoniously to Sri Madhav Kaushik, Prof. Kumud Sharma and Dr. K. Sreenivasarao, respectively President, Vice President and Secretary, Sahitya Akademi. The certificate mentions the participation of more than 1100 writers in 190 sessions in this world’s largest literature festival that lasted six days and over 175 languages were represented. Delivering the inaugural address at the inaugural session of the All India Differently Abled Writers’ Meet, renowned English scholar Prof. G.J.V. Prasad said that we have to work with awareness and affection in connection with the differently abled. Disability is not congenital but many times we acquire it due to our own ignorance and carelessness. He requested all the differently abled writers to identify their special abilities and work on them, they must achieve their destination. In her presidential address, Vice President of Sahitya Akademi, Prof. Kumud Sharma, while discussing the achievements of the differently abled people in various fields, said that the differently abled people will have to move forward with the energy and courage, only then they will be able to achieve their desired destination.
At the beginning of the inaugural session, Sahitya Akademi Secretary Dr. K. Sreenivasarao while giving the welcome address said that Sahitya Akademi is feeling proud to have differently abled writers from 24 Indian languages present here today. Remembering the great writer and critic Gopichand Narang, a symposium was organized on his literary contribution. The chief guests of which were Sri Gulzar and Narang ji’s wife Manorama Narang. Sri Gulzar in his inaugural address said that the personality and work of Gopi Chand Narang is a beautiful combination of his talent and greatness. The key-note was given by the eminent Urdu scholar Nizam Siddiqui. Sadiqur Rahman Kidwai delivered his speech as the special guest. Sahitya Akademi President Madhav Kaushik presided over. Introductory remarks were made by Sri Chandra Bhan Khayal, Convener of the Urdu Advisory Board. Important writers and scholars who participated in these programmes were – Harish Narang, Damodar Khadse, Anvita Abbi, Rita Kothari, K. Enoch, Debashish Chatterjee, Udaya Narayana Singh, Mamang Dai, Sukrita Paul Kumar, Shafe Kidwai, Shamim Tariq.

(K. Sreenivasarao)




INDIAN CRICKET ON A HIGH’

By Sunil Sarpal

Cricket is basically a game of young legs.  The best age for a cricketer is between 20 – 30 yrs.   During this time,  the legs are untiring, reflexes razor sharp, and enthusiasm of very high level.  The moment a mind starts giving a second thought or becomes pessimistic, it is better to throw  the towel.

Different pitches present  different skill set to batsman.  On pacy and bouncy wickets, the ball should be played with soft hands.

India has produced many a talented and crafty batsmen – from Gavaskar to Tendulkar and now Kohli.  They are known for their all-weather skills.  Their records speak volume of their unflinching approach to game and adaptability to different conditions.

There are two ways to play the game –  one calls for feet movement and reaching out to the pitch of the ball before it starts its variations and the other way is hand : eye coordination.  Our own Virender Sehwag was the live example of a hand-eye coordination player.

Generally, the game was played along with the ground but with the advent of shorter version of the game, one dayer and T-20, the shots often sails over the heads of fielders.  Innovation is the new age cricket.  Paddel shots, reverse sweep, scoop etc. and played over wicket keeper are very common these days.  Gavaskar used to play along the ground, Tendulkar along the ground and over the top, so also Kohli.  The shorter version has made all this possible.

India at the moment is thriving on the talent of Jaiswal and Gill.  Both are very talented and take the game of cricket to altogether different level, closing the doors for people like Pujara and Rahane.

India, at the moment has talent in abundance, as a result, people like Ishaan Kishan has no room in the Indian side even though he is young, talented and in-form wicket keeper batsman.  Unfortunately, politics too plays its crucial role in making or marring of  a career.

India also boasts of world class bowlers, both in pace and spin.  Bumrah, Siraj and Shami have all show-cased their impeccable impression on world stage with swing and pace,  leaving no room for Bhuvi – one time front line wreaker-in-chief.  Arshdeep and Mukesh Kr also making in-roads in the side from time to time.

Among spinners, Jadeja, Ashween and Kuldeep are the front runners, leaving no room for Chahal and Axar Patel for consideration.

The above set of players are all young, except for Ashween, and they are guided and goaded from time to time by the experienced pros like Kohli and Rohit.  Indian side shall be further bolstered with the return of recuperating Rishab Pant.

Being a cricket crazy country and with IPL providing astronomical money to players, the game will reach the level of West Indies team which was led by Clive Lloyd




भारत रंग महोत्सव’ 1 से 21 फरवरी तक आयोजित

लेख : अनिल गोयल

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा) दिल्ली अपना पच्चीसवाँ अन्तर्राष्ट्रीय नाट्य समारोह ‘भारत रंग महोत्सव’ 1 से 21 फरवरी तक आयोजित कर रहा है. समारोह का उद्घाटन इस बार 1 फरवरी को मुम्बई में होगा. समारोह की समाप्ति दिल्ली में 21 फरवरी को होगी. भारत के 15 नगरों में 150 से अधिक भारतीय व विदेशी नाटकों का मंचन होगा. इनमें पुणे, भुज, विजयवाड़ा, जोधपुर, भुबनेश्वर, डिब्रूगढ़, पटना, रामनगर, श्रीनगर, वाराणसी, बंगलुरु, गंगटोक और अगरतला सम्मिलित हैं.
समारोह की प्रैस कांफ्रेंस को रानावि के अध्यक्ष परेश रावल ने ऑनलाइन संबोधित किया. इसमें रानावि के कुलसचिव, और रानावि समिति की सदस्य वाणी त्रिपाठी टिक्कू भी उपस्थित थीं. इस बार राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (रानावि) ने अभिनेता पंकज त्रिपाठी को अपना रंगदूत बनाया है. समारोह में लिविंग लीजेंड और मास्टर क्लास जैसे कुछ नये कार्यक्रम प्रारम्भ किये जा रहे हैं. इनके साथ-साथ निर्देशक से मुलाकर और राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय सेमिनार इत्यादि भी किये जा रहे हैं. रानावि के नये निदेशक चित्तरंजन त्रिपाठी ने बताया कि इस बार की चयन प्रक्रिया को ऑनलाइन करके पूर्ण पारदर्शिता लाने का प्रयास किया गया है, जहाँ चयनकर्ता भी एक-दूसरे के बारे में नहीं जानते थे.




रामानुजन

रामानुजन
— अनिल गोयल

दिल्ली के रंगप्रेमी दर्शक साठ और सत्तर के दशकों से लेकर एक लम्बे समय गम्भीर नाटकों के साक्षी रहे हैं. परन्तु पिछले कुछ समय में हास्य-व्यंग्य के कुछ हल्के और कुछ बहुत सस्ते नाटक ही दिल्ली के रंगमंच परिदृश्य पर अधिकतर छाये रहे हैं. ऐसे में एक गम्भीर नाटक में, विपरीत परिस्थितियों में भी दर्शकों की उपस्थिति बहुत उत्साहवर्धक रही, और इस बात के प्रति आश्वस्त करती है कि दिल्ली में अभी भी गम्भीर नाटकों के दर्शक हैं.
संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित प्रताप सहगल के नाटक ‘रामानुजन’ का हिमांशु यादव द्वारा साहित्य कला परिषद दिल्ली के युवा नाट्य समारोह में प्रदर्शन किया गया. यह इस नाटक का कहीं भी पहला प्रदर्शन था. 12 जनवरी 2024 के दिन, इस नाटक से पहले एक और नाटक एल.टी.जी. प्रेक्षागृह में चल रहा था, जो बहुत लम्बा खिंच गया, और नाटक ‘रामानुजन’ अपने निर्धारित समय से एक घंटे से भी अधिक देरी से प्रारम्भ हो पाया. लेकिन फिर भी हॉल लगभग पूरा भरा हुआ था, जिसे देख कर बहुत सन्तोष हुआ.
हॉल देरी से मिलने के कारण प्रकाश परिकल्पक रमन कुमार लाइट्स भी ठीक से व्यवस्थित नहीं कर सके. लेकिन तो भी, अरविन्द सिंह के मार्गदर्शन में हुए इस नाटक के प्रथम प्रदर्शन ने ही दर्शकों को इतना आकर्षित किया कि अन्त तक भी सभी दर्शक बंधे बैठे रहे.
नाटक प्रसिद्ध गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन की जीवन-यात्रा की एक झलक है. इसमें पाठकों और दर्शकों को एक बहुत गरीब घर में जन्मे रामानुजन की अद्भुत, कुछ सीमा तक दैवीय प्रतिभा की जानकारी मिलती है. रामानुजन बचपन से ही गणित की अद्भुत प्रतिभा ले कर पैदा हुए थे, जिसे उन्होंने ग्यारह वर्ष की आयु में ही दिखा दिया था! हाई स्कूल में वे गणित के उच्च-स्तरीय सूत्रों, प्रश्नों और अन्य सिद्धान्तों को आसानी से सुलझाने लगे थे. इस समय तक वे अपने साथियों के लिये एक पहेली बन चुके थे, और उनके साथी उन्हें बहुत श्रद्धा की नजरों से देखने लगे थे; हालांकि गणित पर बहुत अधिक जोर देने और अन्य विषयों की उपेक्षा करने के कारण वे उच्चतर परीक्षाओं में सफल न हो पाये! फिर गरीबी के कारण वे अपना समय मद्रास पोर्ट ट्रस्ट में क्लर्क की नौकरी करके गँवाने को मजबूर हुए.
उन्होंने इंग्लैंड में कैम्ब्रिज में वहाँ के गणितज्ञों के साथ पत्र-व्यवहार प्रारम्भ किया. कुछ समय पश्चात उनकी प्रतिभा को पहचानते हुए उन्हें मद्रास के बोर्ड ऑफ स्टडीज इन मैथेमेटिक्स के द्वारा लन्दन जाने के लिए स्कालरशिप दी गई. विषम आर्थिक, सामाजिक और पारिवारिक परिस्थितियों से लड़ते हुए वे जैसे-तैसे लन्दन पहुँचे और अंग्रेज गणितज्ञ जी.एच. हार्डी के संरक्षण में गणित पर अपना शोध करते रहे. लेकिन स्वास्थ्य के बिगड़ने पर उन्हें भारतवर्ष लौटना पड़ा, जहाँ वे बहुत लम्बे समय तक जीवित नहीं रह सके.
नाटक में उस समय की विषम सामाजिक परिस्थितियों, और उनके चलते रामानुजन के संघर्ष को युवा निर्देशक हिमांशु यादव ने बहुत सफलता के साथ दर्शाया है. साथ ही, असाधारण प्रतिभा वाले लोगों के, जो साधारण डिग्रियाँ में कई बार असफल रहते हैं, संघर्ष को भी उकेरा गया है. मद्रास के बोर्ड ऑफ स्टडीज में रामानुजन को स्कालरशिप दिये जाने के प्रश्न पर हुए विचार-विमर्श से यह स्पष्ट नजर आता है. इस दृश्य में निर्देशक ने उस समय की परिस्थितियों के तनाव को दिखाने में सफलता पाई है. परन्तु रामानुजन का संघर्ष यहीं नहीं समाप्त होता, उसे अपने परिवार के उस समय के गुलाम भारत के रूढ़िवादी विचारों से भी जूझना पड़ता है, हालांकि यह शोध का विषय हो सकता है कि रामानुजन की बूढ़ी दादी सबसे पहले उसे विदेश जाने के लिये अनुमति कैसे दे देती है! इन सब संघर्षों के बीच से निकल कर लन्दन जाने, वहाँ के अत्यन्त ठण्डे मौसम के साथ संघर्ष करने, और उस समय पर चल रहे प्रथम विश्वयुद्ध की विपरीत परिस्थितियों में भी, जहाँ उसे शाकाहारी होने के कारण खाने के लिये आलू के अतिरिक्त कुछ और नहीं मिलता, यह सब परिदृश्य रामानुजन के अनेक-स्तरीय संघर्ष को बहुत सुन्दरता के साथ उभारता है! इसी के साथ-साथ लन्दन के अनेक गणितज्ञ उसके काम को समझ न पा कर नकार भी देते हैं. यही चीज ‘स्ट्रक्चर्ड’ और ‘नॉन-स्ट्रक्चर्ड’ अध्ययन के बीच के अन्तर को भी दिखाती है, और भारतवर्ष की पराधीनता की बेड़ियों को भी दिखाती है! ऐसे में प्रोफेसर हार्डी उसके काम को पहचान कर उसका साथ देते हैं, जिससे रामानुजन की समस्याएँ कुछ सीमा तक कम हो पाती हैं!
रामानुजन के रूप में विपिन कुमार ने एक दक्षिण भारतीय व्यक्ति के चरित्र को बहुत अच्छे से जिया है. इसमें उन्हें अन्य सभी कलाकारों का भरपूर सहयोग मिला, जिससे यह नाटक अपनी तमाम समस्याओं और कमियों के उपरान्त भी एक दर्शनीय कृति बन गई. रामानुजन की पत्नी जानकी के रूप में पूजा ध्यानी नाटक का एक प्रमुख आकर्षण रहीं, जिन्होंने हर समस्या में रामानुजन को पग-पग पर सम्भाला! रामानुजन के साथ लन्दन जाने से पहले के समुद्र-किनारे के भावपूर्ण दृश्य की बात हो, रामानुजन से उसके पत्रों का उत्तर न मिलने की बात हो, या फिर रामानुजन की मृत्यु के अन्तिम दृश्य की बात की जाये, पूजा ने हर स्थान पर अपने सशक्त और भावपूर्ण अभिनय से नाटक को गति प्रदान करके दर्शकों को अपनी सीटों पर बैठे रहने को मजबूर किया! अम्मा (प्रज्ञा बैस) और प्रो. हार्डी (अतुल ढींगरा) से लेकर छोटे रामानुजन (भाग्येश कौशिक) तक सभी कलाकारों ने अच्छे से अपने चरित्र निभाये!
भारतवर्ष का हजारों वर्ष पुराना इतिहास, और सांस्कृतिक विविधताओं वाला एक विशाल देश होने के कारण यहाँ इस प्रकार के व्यक्तित्वों पर नाटक लिखने की अपार सम्भावनाएँ हैं, परन्तु उन पर काम नहीं किया गया है. प्रताप सहगल का जीवनचरित्र दिखाने वाला यह नाटक नाटक नये उभरते नाटककारों को इस ओर काम करने के लिये प्रेरणा देगा. नाटक केवल एक व्यक्ति के जीवन की कथा को ही नहीं दिखाते, अपितु वे अपने समय की राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक परिस्थितियों से भी दर्शकों को परिचित करवाते हैं! समाज में बड़े स्तर पर उथल-पुथल मचा देने वाला एक नाटक बांग्ला नाटकार दीनबन्धु मित्र का 1860 में प्रकाशित नाटक ‘नीलदर्पण’ रहा, जिसने न केवल भारत के स्वतन्त्रता-संग्राम को एक नई दिशा प्रदान की थी, बल्कि यूरोप के अनेक क्षेत्रों के किसानों की दशा के बारे में भी चिन्तन को प्रारम्भ किया था.
मुकेश झा के संगीत सयोजन ने नाटक को आगे बढ़ाने में सहयोग दिया. नाटक में दृश्य-संयोजन में कुछ अनुशासन रख कर निर्देशक दर्शकों के प्रति न्याय कर सकेंगे, पूरे मंच पर पूरे समय गणित के फॉर्मूले दिखा कर निर्देशक ने दर्शकों का ध्यान भंग ही किया है. साथ ही, समुद्र-किनारे के रामानुजन और जानकी के बीच के भावपूर्ण दृश्य में भी रामानुजन के हाथों में स्लेट थमा कर निर्देशक रामानुजन के चरित्र के प्रति न्याय नहीं कर पाये हैं. इन एक-दो छोटी-मोटी चीजों के होते हुए भी, अरविन्द सिंह के मार्गदर्शन में एक सुन्दर नाटक की प्रस्तुति देख कर दर्शकों को एक अच्छा नाटक देखने का सुख मिला, इसके लिये अरविन्द बधाई के पात्र हैं!




लन्दन की गैसलाइट दिल्ली में

समीक्षा: अनिल गोयल

लन्दन की गैसलाइट दिल्ली में
1965 के आसपास एक फिल्म आई थी, ‘इन्तकाम’. रहस्य और रोमांच से भरपूर एक क्राइम थ्रिलर. साठ और सत्तर के दशकों में ऐसी अनेक फिल्में आईं… सुनील दत्त और लीला नायडू की ‘ये रास्ते हैं प्यार के’, विनोद खन्ना की ‘इम्तिहान’ इत्यादि. फिर फिल्मों का यह जॉनर या श्रेणी समाप्त हो गई. बाद में टेलीविजन पर ‘करमचन्द’ के नाम से जासूसी सीरियल आया, परन्तु उसमें भरा मसखरापन उसकी गम्भीरता को प्रभावित करता था. उसके कुछ समय बाद एक लोकप्रिय धारावाहिक ‘ब्योमकेश बख्शी’ आया, जो एक बंगाली कहानी पर आधारित था. दिल्ली के अंग्रेजी रंगमंच पर तो ऐसे क्राइम थ्रिलर लगातार खेले जाते रहे हैं, परन्तु हमारे हिन्दी रंगमंच पर ‘क्राइम थ्रिलर’ की विधा को बहुत कम प्रयोग किया गया है.
राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (रानावि) के तीसरे वर्ष के विद्यार्थी शेखर काँवट ने अपनी पढ़ाई पूरी होने के बाद, ब्रिटिश उपन्यासकार और नाटककार पैट्रिक हैमिल्टन के क्राइम थ्रिलर नाटक ‘गैसलाइट’ को अपनी डिप्लोमा प्रोडक्शन के लिए मंचित किया. इसका हिन्दी में अनुवाद प्रियम्वर शास्त्री ने किया है.
बहुत वर्षों से रानावि में डिप्लोमा प्रोडक्शन के लिए प्रयोगात्मक या एक्सपेरिमेंटल थिएटर, अथवा सीन-वर्क ही प्रस्तुत किया जाता रहा है, या फिर ‘डिवाईज्ड’ प्ले… पूरा नाटक करने की क्षमता वहाँ के विद्यार्थी बहुत कम प्रदर्शित कर सके. सीन-वर्क विद्यार्थियों के प्रशिक्षण का एक हिस्सा हो सकता है, किसी विद्यार्थी की नाटक को दर्शकों के सामने प्रस्तुत करने की क्षमता को वह नहीं दरशा सकता. तीन वर्ष की स्नातकोत्तर पढ़ाई करने के बाद प्रयोगात्मक या एक्सपैरिमैंटल नाटक, ‘डिवाईज्ड’ प्ले या सीन वर्क को डिप्लोमा प्रोडक्शन के रूप में सामान्य जन-दर्शकों के सामने प्रस्तुत करना उस विद्यार्थी की क्षमता को सार्वजानिक रूप से प्रदर्शित करने से रोकना ही कहा जा सकता है! साथ ही, दर्शकों ने भी ऐसे ‘नाटकों’ से अपने को धोखा खाया हुआ ही अनुभव किया है, जिससे दर्शक रंगमंच से दूर ही हुए हैं.

ऐसे में शेखर काँवट के द्वारा अपने में एक सम्पूर्ण नाटक का प्रस्तुत किया जाना चाहे एक नई परम्परा का निर्माण कर रहा है, या फिर एक पुरानी, भुला दी गई परम्परा को फिर से जीवित कर रहा है, लेकिन वह दर्शकों के लिए एक सुखद अनुभव अवश्य रहा. और नाटक तो दर्शकों के ही लिए होता है. डिजाईन, एक्सपैरिमैंट, ‘डिवाईज्ड’ प्ले या सीन वर्क सामान्य दर्शक के लिए नहीं होते.
और शेखर ने इस नाटक को प्रस्तुत करते समय दर्शकों के प्रति अपनी जिम्मेवारी को पूरी सफलता के साथ निभाया है. नाटक की कहानी लन्दन की एक धुंध भरी सन्ध्या में एक समृद्ध व्यक्ति जैक के घर की है, जिसमें जैक अपनी पत्नी को पागल सिद्ध करना चाहता है. उस घर में पहले भी एक हत्या हो चुकी है. अब से लगभग डेढ़ सौ वर्ष पूर्व उस समय पर, लन्दन में सन्ध्याकाल में घर की बत्तियाँ या लाइट्स गैस से जलती थीं, और वही सांयकाल की चाय का भी समय होता था… उसी से पैट्रिक ने अपने नाटक का नाम ‘गैसलाइट’ रखा.
नाटक में लाइट्स शेखर ने स्वयं डिजाईन की थीं, जिनका ऑपरेशन शेखर की सहपाठी पस्की ने किया. लाइट्स, कॉस्टयूम, सैट्स, दृश्य-परिकल्पना, पोस्टर और निर्देशन, सभी कुछ शेखर काँवट का था. नाटक में एक अच्छी चीज रही धुएँ का कम से कम प्रयोग – धुंध भरी सन्ध्या का दृश्य होने पर भी, शेखर ने धुंध दिखाने के लिये केवल प्रारम्भ के कुछ क्षणों में ही धुएँ का प्रयोग किया था, उसके बाद फिर नहीं किया. अकारण मंच पर धुएँ का प्रयोग न केवल दृश्य को अनचाही छद्मता प्रदान करता है, बल्कि हमारे रंगकर्मियों के स्वास्थ्य को कितनी हानि पहुँचा रहा है, यह उन्हें समझना होगा!
एक अचम्भित कर देने वाला परिवर्तन विद्यार्थियों के इस वर्ष की पहली डिप्लोमा प्रस्तुति में नजर आया, और वह था प्रस्तुति में बाहर के विशेषज्ञों के ‘मार्गदर्शन’ का प्रयोग न करना. डिप्लोमा किसी विद्यार्थी की उसके परिक्षण-काल की अन्तिम परीक्षा होती है… ‘पासिंग आउट ऑफ ए ग्रेजुएट’. और परीक्षा में तो यही देखना होता है कि विद्यार्थी ने अपने तीन वर्षों में यहाँ क्या सीखा. उसमें यदि वह सभी बाहर के विशेषज्ञों के सहयोग या ‘मार्गदर्शन’ के द्वारा ही अपना काम दिखा रहा है, तो फिर कैसे यह समझा जायेगा, कि उसने स्वयं ने तीन वर्षों के प्रशिक्षण में क्या सीखा? इस बार विद्यालय की ओर से विद्यार्थियों को कहा गया कि अपने डिप्लोमा के लिये वे नाटक को स्वयं ही तैयार करेंगे; उन्हें जो भी सहायता रानावि से चाहिए, वह उन्हें मिलेगी, लेकिन डिप्लोमा के नाटक को उन्हें स्वयं अपने से ही तैयार करना होगा. बाहर की तकनीकी सहायता यदि कहीं आवश्यक है, तो वह मिल सकेगी, लेकिन बाहरी मार्गदर्शन इत्यादि नहीं होंगे! पता चला है कि अभ्यास के समय पर विद्यालय के अध्यापक रिहर्सल में आकर बैठते थे, उसका निरीक्षण करते थे. इसी के चलते, इस नाटक में केवल ध्वनि प्रवाह या साउंड डिजाईन के तकनीकी काम को सन्तोष कुमार सिंह ‘सैंडी’ ने किया (जिन्हें पश्चिमी संगीत पर अच्छी पकड़ है), बाकी सभी काम इन विद्यार्थियों ने स्वयं किये! और उसके सुखद परिणाम निकले… दर्शक, जो किसी भी नाटक की सफलता के सर्वोच्च निर्णायक होते हैं, इस नाटक से बहुत प्रसन्न नजर आये… जिनके लिये, शेखर कहता है कि उसने यह नाटक तैयार किया था! नाटक में दर्शक के प्रति शेखर की निष्ठा स्पष्ट नजर आती थी, “इंटेलेक्चुअलिटी से दूर रह कर मैंने यह नाटक तैयार किया था; मैं ऐसा नाटक नहीं बनाना चाहता था जो दर्शकों की समझ में ही ना आये”! इसीलिये मैंने नाटक के बाद किसी दर्शक को शेखर को रंगमंच का तारेंतिनो कहते हुए सुना!
इस परिवर्तन के लिए राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के नये निदेशक चित्तरंजन त्रिपाठी विशेष रूप से अभिनन्दन के पात्र हैं. वे स्वयं यहीं से पढ़े हुए हैं, और बहुत सारी चीजों की आवश्यकता और अनावश्यकता को गहरे से समझते हैं. इस प्रकार का परिवर्तन लाने के लिये अकादमिक परिषद को तैयार करना अवश्य ही कठिन रहा होगा. आशा है कि भविष्य में विद्यालय में और भी अनेक अपेक्षित परिवर्तनों को वे ला सकेंगे. इस प्रकार के परिवर्तन से शेखर को स्वयं भी प्रस्तुति के समय पर बहुत मन्थन करना पड़ा, लेकिन परिणाम सुखद ही रहे!
नाटक के मंच की परिकल्पना दो-मंजिला बॉक्ससैट के रूप में की गई थी, जिस का प्रयोग बहुत कठिन होता है. रॉबिन दास, राजेश बहल जैसे गिने-चुने सैट-डिजाइनर्स ही इस प्रकार के प्रयोग कुशलतापूर्वक करते रहे हैं. परन्तु शेखर ने बहुत कुशलता से इस तकनीक का प्रयोग करके इस नाटक को लुभावना बना दिया. शेखर का लाइट्स का प्रयोग भी सुन्दर था, जिसमें दर्शकों की आँखों पर बहुत कम प्रकाश आ रहा था. एक अच्छी बात यह रही, कि शेखर ने इस नाटक को हिन्दी में प्रस्तुत करके भी इस अंग्रेजी नाटक को “रूपान्तरित” करने का प्रयास न करके नाटक को उसके मूल स्वरुप में प्रस्तुत करने का जोखिम उठाया, जिसकी स्वीकार्यता कठिन होने का खतरा था. लेकिन दर्शकों ने नाटक को बहुत सराहा!
नाटक की सबसे सुन्दर चीज थी इसके अभिनेताओं का अभिनय! जैक की युवा पत्नी बेल्ला के रूप में प्रियदर्शिनी पूजा ने सबसे अधिक प्रभावित किया. अपनी पत्नी को पागल बना देने का षड्यन्त्र रचने वाले एक धनी और क्रूर व्यक्ति जैक के रूप में मनोज यादव का अभिनय भी किसी से कम नहीं था… उसके लम्बे बालों ने सचमुच जैक के चरित्र को ठीक से उभारने में मदद की. पुलिस अधिकारी रफ के रूप में अमोघ शाक्य ने सभी दर्शकों को प्रभावित किया. घर की सहायिकाओं के रूप में आईशा चौहान और अंजली नेगी ने भी छोटी भूमिकाएँ होने के उपरान्त भी अपनी उपस्थिति सशक्त रूप से स्थापित की, विशेषकर ऑपेरा-गायन के द्वारा, या फिर घर के मालिक के साथ के अपने प्रेम-प्रसंग को लेकर. पुलिस के सिपाही के रूप में सौरभ पांडे और सुनील थे. अपने सैट्स और प्रकाश-परिकल्पना, तथा कलाकारों से ऑपेरा के गायन का प्रयोग करवा कर शेखर ने नाटक में ब्रॉडवे का वातावरण निर्मित कर दिया था!
रानावि से निकलने के बाद शेखर की आगे की राह क्या रहेगी, यह तो कैसे जाना जा सकता है! लेकिन इस नाटक के रूप में प्रदर्शित उसकी अपने काम में कुशलता उसके अपने और उसके सभी साथियों के उज्जवल भविष्य की परिचायक तो है ही!




20 जनवरी होगा बिफ़्फ़ का धमाकेदार आयोजन। धरती पर चमकेंगे फ़िल्मी सितारे।

लेख: डॉ तबस्सुम जहां

बॉलीवुड इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल का चौथा आयोजन मुंबई में होने जा रहा है। हर साल की तरह इस बार भी सिनेमा जगत की अनेक बड़ी हस्तियाँ इसमें शिरक़त करेंगी। यह कार्यक्रम इस बार भी मुंबई में 20 जनवरी 2024 को वेदा कुनबा थियेटर, अँधेरी वेस्ट में होने जा रहा है। बॉलीवुड एक्टर डायरेक्टर प्रतिभा शर्मा तथा सुप्रसिद्ध एक्टर डायरेक्टर यशपाल शर्मा बॉलीवुड इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल के संस्थापक व आइकॉन फेस हैं।

बता दें कि बॉलीवुड इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल की स्थापना प्रथम लॉकडाउन से पहले 2020 में हुई थी। तब से इसके लगातार तीन कामयाब सेशन हो चुके हैं। 2020-2021दो सालों से अनवरत ऑनलाइन होने वाले इस फेस्टिवल का ऑफलाइन संचालन तीसरी बार पिछले बरस 17-18 दिसंबर को मुंबई के ओशिवारा हारमनी मॉल अंधेरी में हुआ था। इसका चौथा एक दिवसीय सेशन इस बार भी 20 जनवरी 2024 को वेदा कुनबा थियेटर, अँधेरी वेस्ट मुंबई में होने जा रहा है।

बिफ़्फ़ अपने तीन बरस की कामयाब यात्रा कर चुका है। वर्तमान समय के कमर्शियल दौर में बॉलीवुड इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का एक ही उद्देश्य है कि दर्शकों तक ज़्यादा से ज़्यादा स्तरीय व बेहतरीन फ़िल्मे पहुँचाएं। फ़िल्म जगत से जुड़े नए लोग फ़िल्म जगत से जुडी बारिकियों को समझें, सीखे और इसका लाभ उठाते हुए कम संसाधनों के साथ भी अच्छी फ़िल्म निर्माण कर सके। बॉलीवुड इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल उन लोगों के लिए काम करता है जिनके पास प्रतिभा तो हैं परंतु मंच और अच्छे मार्गदर्शन का अभाव है। यह मंच नई प्रतिभाओं को आगे लाता है। फेस्टिवल मे होने वाली मास्टर क्लास से इन नई प्रतिभाओं को मार्गदर्शन मिलता है। बिफ़्फ़ मुंबई मे फ़िल्म जगत से सम्बंधित लोग अपनी फीचर फ़िल्म, शॉर्ट फ़िल्म, डॉक्यूमेंट्री, मोबाइल फ़िल्म, स्टूडेंट्स फ़िल्म, एनीमेशन फ़िल्म और म्युज़िक वीडियो इसके अलावा सिनेमा पर आधारित पुस्तके भी भेज सकते हैं। चयनित बेहतरीन फ़िल्म को वर्ष के अंत में होने वाले फ़िल्म फेस्टिवल में दिखाया जाता है। बेहतरीन कैटेगरी को अवार्ड भी दिया जाता है।

बिफ़्फ़ मुंबई मंच की सशक्त हस्ताक्षर हिंदी सिनेमा तथा रंगमंच के बेहतरीन और लाजवाब एक्टर यशपाल शर्मा और उनकी पत्नी प्रतिभा शर्मा किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। लगान फ़िल्म में अपने ज़बरदस्त अभिनय का लोहा मनवाने वाले यशपाल शर्मा ने फ़िल्म यहाँ, अनवर, गुनाह, दम, वेलकम टू सज्जनपुर, गैंग्स ऑफ वासेपुर 2, गंगाजल, राउडी राठौड़, सिंह इज़ किंग सरीखी फिल्मों में अपने अभिनय का बेहतर प्रदर्शन किया वहीं दादा लख्मीचंद जैसी क्लासिकल संगीतमय फ़िल्म बना कर डायरेक्शन के क्षेत्र में भी बुलन्दी के सभी झंडे गाड़ दिए। वहीं दूसरी ओर प्रतिभा शर्मा एक्टर डायरेक्टर होने के साथ यह एक समाज सेविका के रूप में भी जानी जाती हैं जिनका ‘पहल फाउंडेशन’ आर्थिक संकट में फंसे कलाकारों की सहायता करता है। इनकी रचनाधर्मिता की बात करें तो इनकी तक़रीबन सभी छोटी बड़ी फिल्में, डॉक्यूमेंट्री तथा कविताएं व कहानी स्त्री जागरूकता व स्त्री सशक्तिकरण की बुलन्द आवाज़ हैं।

यशपाल शर्मा तथा प्रतिभा शर्मा ने बताया कि आज के कमर्शियल दौर में बॉलीवुड इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का एक ही उद्देश्य है कि दर्शकों तक ज़्यादा से ज़्यादा स्तरीय व बेहतरीन फ़िल्मे पहुँचाएं। फ़िल्म जगत से जुड़े नए लोग फ़िल्म जगत से जुडी बारिकियों को समझें, सीखे और इसका लाभ उठाते हुए कम संसाधनों के साथ भी अच्छी फ़िल्म निर्माण कर सके। बिफ़्फ़ की शुरु होने के बारे में प्रतिभा शर्मा बताती हैं कि यह फेस्टिवल बातों-बातों में शुरु हुआ था और जैसे ही बॉलीवुड इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल नाम दिमाग में आया तो इसे आनन फानन तुरंत ही रजिस्टर्ड कर लिया गया। हालांकि इसे लाने के पीछे हमारा एकमात्र उद्देश्य अच्छे सिनेमा को प्रमोट करना है। यशपाल शर्मा इसके मक़सद और उद्देश्य के संबंध में बताते हैं कि जो लोग अच्छे टैलेंटिड हैं, अच्छे कलाकार हैं अच्छे डायरेक्टर व एक्टर हैं वो लोग कई बार फेस्टिवल को लेकर इनसिक्योर महसूस करते हैं कि पता नहीं इतनी बड़ी-बड़ी फिल्में फेस्टिवल में आएंगी तो पता नहीं उनका नम्बर आएगा या नहीं। पर मैं उनको भरोसा दिलाता हूँ कि अगर उनकी फ़िल्म में दम है या उनकी एक्टिंग में दम है तो बॉलीवुड इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल उनको ज़रूर सिलेक्ट करेगा और उनको सम्मानित करेगा व उनको अवार्ड देगा।

बॉलीवुड इंटरनेशनल फ़िल्म फेस्टिवल उन लोगों के लिए काम करता है जिनके पास प्रतिभा तो हैं परंतु मंच और अच्छे मार्गदर्शन का अभाव है। यह मंच नई प्रतिभाओं को आगे लाता है। फेस्टिवल मे होने वाली मास्टर क्लास से इन नई प्रतिभाओं को मार्गदर्शन मिलता है।

वर्तमान में देश विदेश में अनेक छोटे बड़े फ़िल्म फेस्टिवल हो रहे हैं अन्य फेस्टिवल से इतर बिफ़्फ़ कैसे ख़ास है या बिफ़्फ़ ने कैसे अपनी छवि बाक़ी फेस्टिवल से अलग बनाई है इस संबंध में प्रतिभा शर्मा कहती हैं कि उनकी जो ज्यूरी है वह बहुत स्पेशल है। नेशनल और इंटरनेशनल अवार्ड विनिंग ज्यूरी है। उनके शब्दों में “हम निष्पक्ष होकर सारा फैसला देते हैं। पहले हम लोग जो होम ज्यूरी हैं वो देखती हैं वो इस तरह फाईनल फैसला लेते हैं उसके बाद चयन होता है फिल्मों का। इस तरह बहुत ही ट्रांसपेरेंसी होती है। इसमे हम किसी की फ़िल्म अच्छी हो तभी अवार्ड देते हैं।” यशपाल शर्मा के अनुसार “आजकल बहुत सारे फेस्टिवल हो रहे हैं लेकिन मैंने जितने भी फेस्टिवल देखें हैं 90% फेस्टिवल उनकी मैनेजमेंट में गड़बड़ी, उनका एक अच्छा सिनेमा दिखाने में गड़बड़ी, उनका अपने दोस्तों का सिनेमा दिखाने की गड़बड़ी यानी वह केवल अपने कुछ लोगों का सिनेमा दिखाते हैं जिन्हें वह प्रमोट करना चाहते हैं। जब कोई फ़िल्म चल रही है किसी फेस्टिवल के अंदर और वह लोगों को बोरिंग लगे अच्छी न लगे, उसका मानक सही न हो यानी उसकी डिग्निटी सही न हो, फ़िल्म की क्वालिटी अच्छी न हो तो असल में हम अपने दर्शकों को तोड़ रहे होते हैं और उनको जोड़ नहीं रहे होते हैं। केवल कुछ लोगों को खुश करने के लिए दिखा रहे होते हैं।” उनके अनुसार उनके बिफ्फ में ऐसा बिल्कुल नहीं होगा। वे बताते हैं कि पिछले सेशन में बहुत लोग हमारे खिलाफ़ हो गए थे कि हमारी फ़िल्म क्यों नहीं दिखाई। वह फिल्में ज्यूरी ने सिलेक्ट नहीं की थीं इसलिए नहीं दिखाई। हमें इस बात का कोई ग़म नहीं है हम अपनी क्वालिटी के तौर पर अपना फेस्टिवल आगे बढ़ाते रहेंगे और आगे चलते रहेंगे।

बिफ़्फ़ मुंबई का पिछला तीसरा आयोजन मुंबई में हुआ जो अपने आप में बेहद सफल रहा। महीनों तक देश विदेश में इस फेस्टिवल की चर्चा होती रही। खासतौर पर यह फेस्टिवल दो दिन दिखाई जाने वाली सामाजिक फिल्मों को लेकर अधिक चर्चा में रहा। प्रतिभा शर्मा बताती हैं कि बिफ़्फ़ अपने सामाजिक दायित्वों को पूरी तरह से निभा रहा है। वार्षिक फेस्टिवल के अलावा हम लेट्स टॉक के मंच पर सिनेमा जगत से जुड़े कलाकारों व सेलिब्रिटी को बुलाकर विविध विषयों पर चर्चा की जाती है । सिर्फ़ एक्टिंग ही नहीं या सिर्फ़ निर्देशन ही नहीं या फ़िर संगीत ही नहीं बल्कि फ़िल्म से जुड़े सभी पहलुओं पर। तो एक सर्वांगीण चर्चा जो इस मंच पर होती है और मेरे ख़्याल से जिस मंच पर सर्वांगीण चर्चा होती है वो स्वयं अपने आप मे एक सामाजिक दायित्व निभा रहा है। उनके कथानुसार “बिफ़्फ़ अपना सामाजिक दायित्व निभा रहा है या नहीं यह तो दर्शक तय करेंगे और दर्शकों का, लोगों का अभी तक हमें बहुत प्यार मिला है तो मेरे ख़्याल से हम लोग सही जा रहे हैं।” यशपाल शर्मा का भी मानना है कि उनके बिफ़्फ़ में इंडियन फिल्में और विदेशी फिल्में दोनों शामिल हैं चाहे वह शॉर्ट फ़िल्म हों चाहे फ़ीचर फ़िल्म हों, चाहे डॉक्यूमेंट्रीज़ हों या वेबसीरीज़ हों या बाक़ी हों तो इसलिए इसमें जो विदेशी अच्छा सिनेमा है वो हम को देखने को मिलता है। और जो हमारा अच्छा सिनेमा है वो विदेशियों को देखने को मिलता हैं। पिछले फेस्टिवल में मुझे अभी तक याद है कितनी सारी विदेशी फिल्में आई थीं जिनको देखना अपने आप में कमाल का अनुभव था। हमको एक अच्छा दर्शक भी होना है क्योंकि सिनेमा देख कर हम बहुत कुछ सीखते हैं। तो हमारे फेस्टिवल में एक मेला जैसा लगा है तीन साल। और बक़ायदा लोगों ने ख़ूब देखा है सिनेमा और तारीफ़ भी की है। सैंकड़ों मैसेज भी आए हैं। यह बहुत बड़ी उपलब्धि है हमारा यही मक़सद है कि विदेशी सिनेमा भारतीयों तक पहुँचे और भारतीय सिनेमा विदेशियों तक पहुँचे बिफ़्फ़ ने दोनों जगह आशातीत सफलता पाई है।

प्रतिभा शर्मा और यशपाल शर्मा बताते हैं कि बिफ़्फ़ में लोग फीचर फ़िल्म, शॉर्ट फ़िल्म, डॉक्यूमेंट्री, मोबाइल फ़िल्म, स्टूडेंट्स फ़िल्म, एनीमेशन फ़िल्म और म्युज़िक वीडियो इसके अलावा सिनेमा पर आधारित पुस्तक भी भेज सकते हैं। चयनित बेहतरीन फ़िल्म को जनवरी में होने वाले फ़िल्म फेस्टिवल में दिखाया जाएगा। इतना ही नहीं बेहतरीन कैटेगरी को अवार्ड भी दिया जाएगा।

बिफ़्फ़ फेस्टिवल सीज़न 4 जनवरी में मुंबई में होगा उसके लिए ज़ोरो शोरो से तैयारियां हो रही हैं एक ख़ास बात जो बिफ़्फ़ को अन्य फेस्टिवल से अलग करती है वो इसकी रचनाधर्मिता के प्रति लगाव है यही कारण है कि इस बार पहली बार लोगों की सिनेमा जगत विषय पर लिखने वाले लेखकों को भी फेस्टिवल में शामिल किया गया है प्रतिभा शर्मा और यशपाल शर्मा चूंकि स्वयं लेखन और साहित्य जगत में रूचि रखते हैं इसलिए फेस्टिवल में उन पुस्तकों को भी शामिल किया गया है जो सिनेमा से जुड़ी हैं। चयनित पुस्तकों को भी अवार्ड दिया जाएगा।


लेखक: डॉ तबस्सुम जहां

पुस्तक ‘दूसरी हिंदी’ मे कविताएं संकलित। इनकी प्रथम लघुकथा चौथी दुनिया समाचार पत्र में छपी। इसके बाद समय-समय पर अनेक कहानियां, लघुकथाएं, कविताएँ, पुस्तक समीक्षा, फ़िल्म समीक्षा, आलेख, आलोचनात्मक समीक्षा देश-विदेश की विभिन्न प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं जैसे सदभावना दर्पण, संवदिया, पुरवाई (ब्रिटेन), हम हिंदुस्तानी (अमेरिका), साहित्यकुंज (कनाडा), नेशनल एक्सप्रेस, विभोम स्वर, सामायिक सरस्वती, विश्वगाथा, आगमन, अनुस्वार, पैरोकार, आधुनिक साहित्य पत्रिका, हस्ताक्षर, जामिया हिंदी विभाग की पत्रिका ‘मुजीब’ तथा लोकस्वामी, लोकमत, मुस्लिम टुडे, यूनिवर्सल कवरेज, चौथी दुनिया, भारत भास्कर, दैनिक भास्कर, इंदौर समाचार पत्र, डेल्ही हंट, अमृतविचार, हरिभूमि, 4 pm, दैनिक जनवाणी, जनहित इंडिया, प्रातः काल समाचार पत्र, मीडिया केयर, देश रोज़ाना, उजाला, विशेष दृष्टि तथा सिटी एयर, क़ुतुब मेल, फॉलोअप, समाचार वार्ता, पार्लियामेंट स्ट्रीट, पैरोकार वार्ता के अलावा अनेक प्रतिष्ठित वेबसाइट और अनेक अखबारों में प्रकाशित हों चुकी हैं।




INDIA vs SOUTH AFRICA – TWO TEST SERIES, an EPILOGUE

By Sunil Sarpal

Match Winners: Bumrah, Siraj and Shami

It was a very short series to judge who the real winner is. Generally when Team India visits Australia, New Zealand, South Africa and England, they take some time to acclimatize and take a stock of the pitch behaviour, weather conditions etc. etc. And in the process the first encounter is won by the host country, taking early advantage in the series.

Generally, in India for fast bowlers the rise of the ball is knee high, whereas, in Australia it is waist high. It therefore becomes a different ball game in India viz-a-viz Australia. In England and New Zealand, the swing imparted by fast bowlers is alarming in proportion. Life for a batsman becomes very difficult in such conditions. That is the reason, life for Indian batters becomes very difficult early on.

Every other batter is not Sachin Tendulkar who used to get adjusted with any condition quickly, be it swing, pace, spin, height imparted by the bowlers.

In South Africa, India had to face the ignominous defeat in the first test in trying conditions. Only KL Rahul could post a century from Indian side.

In the second test, India got the early advantage when SA captain after winning the toss elected to bat first. In a situation when Indian batters were low in confidence after facing first test defeat, they were somewhat relieved off SA fast bowling attack.

Indian pace attack, in particular, Mohd. Siraj bowled magnificently and took 6 SA wickets and India resultantly cleaned up SA with a paltry score of 55 runs on the board. The die had been cast by Mohd. Siraj in the second test and the pendulum shifted in favour of India. India took a lead of 100 odd runs in the first innings.

Bumrah did a Siraj in the second innings when he too scalped six SA wickets and India tasted SA defeat on their own soil.

Three Indian pacers from time to time have created havoc in the opposition camp, namely Bumrah, Siraj and Shami.

India is fortunate to have the services of veterans; Rohit Sharma and Virat Kohli in it’s ranks. The other batters viz Gill, Iyer and Rahul take full advantage of their benign presence.

In a team where there is no room for the recuperating Rishab Pant, his replacement, KL Rahul, is doing a yoeman’s job for the team with both bat and gloves behind the stumps.

Team India at the moment is hard to challenge and put aside or be dislodged in most conditions.




Sam Bahadur – A lackluster effort which disappoints

A review by Sanjiva Sahai

Sam Bahadur, the biopic by Meghna Gulzar, attempts to bring Field Marshal Sam Manekshaw to life, but it’s a lacklustre effort that falls flat. Watching his interviews or listening to audio recordings would have been a more engaging tribute.

Yes, the movie falls flatter than a pancake, lacking the cinematic excellence needed to do justice to this real-life hero’s valour and contributions. The screenplay and execution, akin to a deflated balloon at a celebration, fail to capture the essence of his remarkable journey. It’s almost as if the scriptwriters were aiming for a snooze fest rather than a compelling tribute to the national icon.

Furthermore, the core of the narrative hinges on the war sequences. Whether lifted from dusty archives in mere snippets or presented without leaving a discernible impact, these scenes fail to contribute meaningfully to the overall theme.

The movie adopts a docudrama-like tempo, punctuated by sporadic witty moments that aim to reflect the essence of Sam’s character. Unfortunately, this approach falls short of creating a consistently engaging experience, leaving viewers yearning for a more dynamic and compelling storytelling rhythm.

Vicky Kaushal nails the postures but overdoses on drama in dialogue delivery, occasionally channeling Dev Anand – a peculiar choice. His characterization is more external that misses out on the depth. The actor who moved everyone of us with Sardar Udham, stays put on the periphery. Fatima Sana Sheikh’s portrayal of Indira Gandhi lacks authenticity, bordering on the amateurish. Most of the actors in the movie come and go unnoticed. In the midst of the forgettable portrayals on reel, one can’t help but salute the vibrant spirit of the real Manekshaw.

Talking about my generation- having grown up inspired by the valour and vibrancy of Manekshaw, listening to his words on the radio and later on TV, the movie proves to be a disheartening disappointment.
_____ Sanjiva Sahai




INDIAN CRICKET LEGACY – KAPIL DEV HANDING OVER BATON TO HARDIK PANDYA

By Sunil Sarpal

Hardik Pandya Kapil Dev

When cricket is discussed on any forum, it is impossible to overlook the name of Kapil Dev, such is his indelible aura and standing in Indian cricket. He was the original captain cool to have lifted one-dayer trophy in 1983 at Lords, England. On way to winning the trophy, a number of players contributed significantly but Kapil’s 175 against Zimbabwe was the stand out performance.

Kapil Dev in his hey days was supremely fit and athletically built all-rounder. He was known for his banana out-swing for right hand batsman. It foxed the batsman by the curve it generated. Kapil could also generate height from the wicket to unsettle the batsman. He was India’s wrecker-in-chief and the lone hope in fast bowling. Apart from bowling, he was a reliable batsman too. He was in the mold of a genuine all-rounder for India. Being supremely fit, he never missed a match due to injury in his entire career. In his illustrious career, he played some of the memorable innings with bat to bail out India from the difficult and ignominous situations.

On the other hand, Hardik Pandya is a present day all-rounder in the making. Will he fit into the bill of Kapil Dev is a million dollar question ? India’s hopes do not rest on Pandya’s shoulders, as was the case with Kapil.

Pandya is an attacking batsman with the ability to hit sixes at will. Pandya is a modern-day batsman, unlike Kapil whose aggression was restraint in nature. Pandya’s medium pace bowling is not as lethal as was the case with Kapil. India could rely upon Kapil as a front line bowler whereas Pandya always comes in the slot as fifth bowler in one-dayers variety. In case of Pandya, he carries the reputation of being tagged as injury prone. First, he had back injury which kept him away from active cricket and now he twisted his ankle in ICC trophy.

If an assessment is made between Kapil and Pandya in terms of physicality, Kapil was streets ahead in comparison with Pandya. At times, some kind of fatigue was visible on his face when bowling long spells or in humid conditions.

Both Kapil and Pandya played the game of cricket in different eras. Pandya is the all-rounder in the making in modern cricket. His slam bang batting is more suited to T-20 format.

Pandya should not show much athletic skills on the field which results in his succumbing to injury frequently.. He needs to preserve his energy so that whenever is called upon to bowl, he is able to deliver the goods.

In batting too, Pandya relies heavily on airy-fairy shots. He need not indulge in high-risk shots. He needs to curb his instincts to hit every ball over the ropes. Pandya should evolve his batting in such a manner so that more often he plays cricketing ground shots and lift the ball when it falls in his zone. Pandya’s intent is to slog and not to bat in restrained manner.

Pandya is still to establish himself as a reliable and genuine all-rounder. A long way forward but he should guard against his fragile frame much more seriously.

In a recent development, Hardik Pandya has been bestowed with the responsibility to lead Mumbai Indians IPL franchise.  He will replace Rohit Sharma under whose leadership the Mumbai Indians have won the IPL five times.  Rohit’s form with the bat has gone down a few notches, hence, this change in leadership.  Hardik led  the newly formed Gujarat Titans in the last IPL and won a  trophy for them.  Hardik’s rise in stature will open new avenues for him to become India captain in the future.